दोस्त की बीवी ने दिया सेक्स का फुल मजा-Antarvasna Sex Story – AssameseSexStory.xyz

दोस्त की बीवी ने दिया सेक्स का फुल मजा-Antarvasna Sex Story

क्या चुदाई की कहानी में जो मेरा दोस्त है उसका नाम गुलज़ार है और उसकी शादी 2021 में हुई थी गुलज़ार की शादी एक वहीदा नाम की लड़की से हुई थी उसकी उमर 21 साल की थी वहीदा की हाइट 5″3 है और उसका रंग गोरा है उसका फिगर काफी अच्छा है जिसे वो काफी कयामत की माल लगती है।

उसको देखते ही लंड खड़ा हो जाता है तीन साल में मेरे दोस्त को एक बेटा भी हो गया है पर लेकिन एक बच्चा हो जाने के बाद भी वहीदा कहीं से भी एक बच्चे की मां नहीं लगती थी मैं कभी कभी सोचता हूं कि मेरे दोस्त की शादी वहीदा से हुई तो हुई केसे और कहां वाहिदा और कहां गुलज़ार जो उसके सामने कुछ भी नहीं लगता।

बात इसी साल सितंबर की है जब मैं बिहार के मुजफ्फरपुर में 15 दिनों के लिए कुछ काम करने गया था तब स्टेशन से कुछ ही दूर ऑटो से 10 मिनट की दूरी पर गुलजार का घर है मेरा जो काम था वह 10 दिनों में ही पूरा हो गया गया था और मुझे 15 दिन बाद ही वापस आना था।

तो उन 5 दिनों में मैं फ्री रहने वाला था तभी मुझे गुलजार की बात याद आई कि हमारी मुलाकात हुए 1 साल हो गया है और अब वो मुझसे मिलना चाहता था तो मैंने सोचा कि क्यों ना परवीज को सरप्राइज दिया जाए और मैं उसी दिन 2 बजे उसके घर जाने के लिए निकल गया।

15 मिनट में उसके गांव में चला गया और मुख्य परवीज को बिना कॉल किए ही उसके आंगन के बाहर खड़ा हो कर उसे आवाज देने लग गया। फिर 30 सेकंड के बाद परवीज़ की जगह की पत्नी बाहर आ गई तो मैं अपनी मस्ती वाले मूड को शांत करके नॉर्मल हो गया।

वहीदा मुझे देख कर बोली- क्या विक्की तुम अचानक से बताओ भी नहीं मैं – मैं अपने दोस्त को सरप्राइज़ देना चाहता था तो मैंने सोचा कि चुप चाप आ जाऊँ वहीदा- ठीक किया आ गया फिर वो मुझे अंदर ले कर आई और गुलजार के बारे में बताया कि वो कोलकाता अपनी बहन के पास गए हैं वो तुम्हें मिलने खुद कहां गए हैं और तुम यहां आ गए उसके बाद उसने गुलजार को फोन किया और उसने मुझसे उसकी बात करवायी.

गुलजार बहुत खुश हो गया और मुझे पर वो गुस्सा होने लग गया मैंने उसे नहीं बताया कि मैं उसके घर के पास काम से आया हूं और उसे मैंने कुछ खबर तक नहीं दी थी पर मेरी सारी बात सुन कर वो शांत हो गया और वाह बोला गुलज़ार – तुम मेरे घर ही रुको और मैं परसो शाम तक घर आ रहा हूँ चाहे अब कुछ भी हो जाए मुझे मिला बिना मत जाने।

मैंने उसे मना भी किया पर वो कुछ मान ही नहीं रहा था अब उसकी पत्नी ने भी मुझे रुकने को कहा और फिर जबरदस्ती मुझे रोक लिया मैं भी रुक गया और उसके बाद वहीदा ने बगल वाला कमरा बंद कर लिया था उसे खोला और जहां मेरे आराम का इस्तेमाल किया के लिए बिस्टर ठीक किया।

उसने जब 10-15 मिनट की सफ़ाई करने के बाद वो कमरा मुझे आराम के लिए दे दिया मैं जहाँ जा कर गुलज़ार के बच्चे के लिए कुछ चॉकलेट और कपड़े ले कर गया था मैंने वो सब वहीदा के हाथ में ला कर दे दिया जिसे वो काफ़ी खुश हो गयी.

फ़िर मैं उसके बेटे को ले कर खेलने लग गया और वेसे मैं गुलज़ार के घर कोई त्यारी के साथ नहीं गया था क्योंकि मैं अपना कपड़ो वाला बेग अपने काम की जगह पर रख कर आया था इसलिए वहीदा ने मुझे गुलज़ार के कुछ कपड़े दिए ताकि मैं ताज़ा हो कर उसे पहन सकूँ।

पर गुलज़ार घर पर लुंगी इस्तेमाल करता था और मुख्य पतलून पहनने वाला था तो लुंगी पहनने कर मुझे थोड़ी परेशानी हो रही थी फिर शाम हो गई और वहीदा फ्री हो कर मेरे रूम में आ कर मुझसे बहुत सारी बातें करने लग गई।

उसके बाद रात का खाना हम लोगों ने साथ में खाया उसके बाद मुख्य कमरे में आ कर सोने लगा उसी बीच गुलजार की पत्नी काफी बार मेरे कमरे में आई उसने कभी पानी रखा तो कभी किसी दूसरे का से आ रही थी।

रात को हम लोग अपने कमरे में सो गए थे और सुबह 6 बजे मुझे ऐसा लगा कि कोई मेरे कमरे में है मैंने हल्के से अपनी आंख खोल कर देखा तो वहीदा मेरे कमरे में सफाई कर रही थी पता नहीं मुझे उस दिन क्या हो गया  क्योंकि मैं उस दिन वहीदा की दूसरी नज़रों से देखने लग गया।

सुबह का टाइम था और उसके साथ भी मेरा लंड उस टाइम खड़ा हो जाता था ऊपर से वहीदा की कमर मुझे साफ दिख रही थी और वो भी मुझे पागल कर रही थी पर मेरी फिर से आंख लग गई और मैं सो गया जब मेरी आंख खुली तो मैंने देखा कि वहीदा मेरे सामने खड़ी हुई मुझे आवाज दे रही है।

फिर जब मैं उठा तो मेरा लंड एक दम लोहे की रॉड की तरह खड़ा था वो मेरी लुंगी में साफ दिख रहा था जिसे वहीदा भी देख कर समझ चुकी थी मैं ये देख कर डर गया कि वहीदा कहीं मुझे गलत ना समझ ले मुझे अंदर से अच्छा नहीं लग रहा था इसलिए मैं वहीदा से अपनी नजरें चुरा रहा था।

वाहिदा – जब तुम सो रहे थे पर तुम्हारा सब कुछ जाग हुआ था मैं – क्या मैंने कुछ समझा नहीं वाहिदा – ज्यादा अंजान मत बनाओ जवानी में सब का ये होता है और तुम जरा लुंगी को संभाल कर पहचान करो इसे दो बार तो मैं ही ठीक कर चुकी हूं मैं अब शर्म के मारे चुप हो गई और वो बोली – वेसे मेरी नियत तो आज तुम्हारे ऊपर खराब हो गई थी।

मैं वाहिदा के अचानक ऐसी बातों से हरियाण हो गया था और पर इसी बाते सुन कर अब मुझे मजा भी आ रहा था माई मन ही मन सोच रहा था कि क्यों ना वहीदा से लंड की प्यास बुझाता हूं जब तक पवीज़ घर नहीं आता अब मेरा मन वहीदा को चोदने का होने लग गया वहीदा मेरे सामने ही थी और मैं उसकी बात का जवाब देते हुए बोला।

मैं – अब तो मेरी नियत भी खराब होने लग गई है मेरी बात सुन कर वहीदा मुस्कुराती हुई साथ वाले रूम में चली गई और वो अपने ओ खिलने लग गई मैं भी कुछ देर में उसके रूम में चली गई और मैं वहीदा से बात करने लगी लग गया हम लोग कभी नॉर्मल बात कर रहे थे तो कभी कभी मैं वहीदा से सेक्सी बातें भी कर रहा था।

मेरी बातों से वहीदा को भी अब मजा आ रहा था पर वो खुद को छुपा कर रखे हुई थी उसकी हरकतों से ऐसा लग रहा था वो चाहती है कि मैं पहनूं क्योंकि वो मुझे काफी घुर घुर कर देख रही थी और वो कभी मेरे सामने ही अपनी चूत को सहल रही थी।

तभी मैं ठीक से उसके साथ में जा कर बैठ गया और धीरे-धीरे मैं वहीदा की कमर पर हाथ फेरने लग गया वो सफेद कुटीर और लाल पजामे में थी ऊपर से उसके कपड़े एक बांध फिटिंग वाले थे जिसका वहीदा का फिगर और भी मस्त लग रा था.

मैं धीरे-धीरे उसकी कमर को सहला रहा था और तभी उसने अपने सर के बालो को दूसरी तरफ करके दूसरी साइड में कर दिया जिसे वहीदा का गला और कंधा मुझे अब साफ दिखने लग गया उफ मस्त गोरा कंधा देख कर मेरा मान उस पर टूट पड़ने का होन लग गया.

फिर मैं उसके कंधे पर हल्के से चुम्बन करने लग गया जिसके उसके मुँह से आहह आहह की मस्त आवाज़ निकल गई अब मैं समझ गया कि वहीदा अब पूरी गरम हो गई है उसका बीच उसका बेटा भी अब सो चुका था पर वो अभी भी वहीदा की भगवान मुझे था.

हल्की नींद में होने के करण वाहिदा ने बिस्तर पर रख नहीं पा रही थी अब मैं वहीदा के कांधे और गले पर जोर जोर से किसिंग और काटने लग गई वाहिदा भी अब मेरे सर पर अपना हाथ फेरने लग गई जब मैं एक तरफ कांधे और गले को जी कर किस कर लिया.

तोह उसने अपनी दूसरी तरफ से अपने सारे बाल हटा दिए और वो उसने अब वो मेरे सामने कर दिया अब मैं भी वेसे ही करने लग गया और वहीदा के कपड़ो की चेन खोलने लग गया कुछ ही पल में मैंने उसकी कमर को पूरा खोल दिया अब मैं पीछे ही बैठ कर वहीदा के स्तनों पर हाथ फेरने लग गया और उसे दबाने लग गया क्या बातुन दोस्तो मुझे काफी मजा आ रहा था और वो भी शुद्ध मजे ले रही थी जब उससे बुरा नहीं हुआ तो उसने अपने बेटे को बिस्तर पर लेटा दीपक।

अब उसने मेरी तरफ मुंह किया और सबसे पहले उसने मुझे जबरदस्त किस किया फिर वो मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बिस्तर से नीचे ले गई और वो मुझे फिर से किस करने लग गई अब वो मेरे मुंह में अपनी जेब डाल कर मेरी तरफ को उस पार रगड़ने लग गई.

इसी बीच मैं उसके ऊपर कपड़ो की चेन पहले ही खोल चूका था। तो अब उसके स्तन मेरे सामने तन कर आ गए थे अब मैं उसके सीने पर चुंबन किए जा रहा था तभी वो खुद से ही अपने यार के कपड़ो को अपने आप से अलग करके एक तरफ फेंकने लग गई।

वाहिदा के दोनों स्तन अब मेरी आँखों के सामने थे और मुझसे अब रहा नहीं गया मैं सिद्ध वाहिदा के निपल्स को अपने मुँह में ले कर चूसने लग गया वो अपनी आँखें बंद करके मजा ले रही थी और वो बोली – पी लो मेरा दूध आह मुझे काफ़ी अच्छा लग रहा है।

अब उसने मुझे अपने भगवान से ले लिया और उसने पहले मुझे अपना राइट वाला स्तन चूसने को दिया और वो खुद मेरे ऊपर झुक गई मैं वाहिदा के स्तन को अब जोर जोर से चूसने लग गया वाहिदा के स्तन से अब मैं हल्के मीठे दूध को पीना लग गया.

मानो आज मैं सुबह का नाश्ता उसके दूध कर रहा हूं उसके बाद मैंने जमीन पर लेटा दिया और मैं वहीदा के दूसरे स्तनों को चूसने लगा गया देखता ही देखता हूं मैं वहीदा के स्तनों को पूरा निचोड़ कर पी चुका था पर मुख्य उसके स्तनों को अभी चुस्ता ही जा रहा था.

वाहिदा – अभी तक तुम्हारा आदमी नहीं भरा तुमने मेरे बच्चे के लिए भी दूध नहीं छोड़ा है मैं – यार इतना स्वादिष्ट दूध था तो मेरा आदमी इसे छोड़ने का हुआ ही नहीं वाहिदा – ठीक है जब तक गुलज़ार नहीं आते तब तक तुम को मैं ऐसे ही दूध पिलाती रहूंगी फ़िर वो मेरे मुँह पर लगे हुए दूध को अपनी जीभ से चटने लग गई और वो मुझे किस करने लग गई मैं – तुम ज़मीन पर लेट जाओ।

तो वो जल्दी से लेट गई और मैंने भी देर ना करते हुए वाहिदा की पजामी को उतार दिया कुछ ही सेकंड में मैंने पूरी नंगी कर दिया अब वहीदा की चूत मेरी आंखों के सामने थी जो एक बच्चा होने के बाद भी पूरी साफ नजर आ राही थी जेसे किसी कुंवारी लड़की की चूत होती है उसकी चूत एक दम वेसे ही थी।

मुख्य अब उसकी चूत पर चुंबन करने लग गया और वहीदा अब अहह अहह उम्म करने लग गई फिर उसने अपनी दोनों जोड़ी खुद खोल दी और मैं उसकी गीली चूत को दर्द से चाटने लग गया मुख्य उसकी चूत के अंदर अपनी जीभ डाल कर अंदर से चूसने लग गया.

वाहिदा अब बस आह आह करके लंबी सांस ले रही थी और मैं उसकी चूत के रस को दूध समझ कर पी रहा था मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था और दोस्तों मैंने आज तक ऐसी चूत का रस नहीं पिया था वाहिदा मेरे सर को पकड़ कर मुझे अपनी चूत का पानी पिला रही थी और हमसे बिछड़ गया अब रुका नहीं गया।

तभी मैंने अपनी लुंगी को उतारा और मैंने अपना 7 इंच का लंड बाहर निकाला कर उसकी चूत पर सेट करके एक जोरदार धक्का मारा यह एक कुंवारी लड़की चिल्लाती है वो वेसे ही जोर से चिल्ला पड़ी उस समय उसके मुंह से निकलती गालियां मुझे काफी मजा दे री थी.

अब मैं दना दन जोरदार ढको के साथ चोद रहा था मेरे हर धक्के से उसके मुँह से आहा आहा की आवाज निकल रही थी। पर ढको के बाद वो बस अब मजा वाली आवाजें निकल रही थी और वो मुझे जोर जोर से करने को बोल रही थी।

वाहिदा- आह्ह आहा और जोर से करो विक्की आहाहाहा मैं- हम्म्म वाहिदा- बुझा दो आज मेरी सारी प्यास जी भर कर मुझे चोदो। आह आह मुझे बहुत मजा आ रहा है तुम्हारा लंड सच में बहुत ताकतवर है गुलजार तो बस 2-3 ढको के बाद ही शांत हो जाता है मैं- हम्म्म.

मै बस उसे धक्के पर धक्का मार रहा था और वो भी मेरे लंड को दर्द से अपनी चूत की जड़ तक ले रही थी वो खुद से ही कमर को उठा उठा कर मेरे लंड को अपनी बचदानी तक ले रही थी करीब 20 मिनट तक ऐसे ही लगतार चुदाई के बाद मैं अब छूटने वाला था मैं – मेरा अब निकलने वाला है वहीदा – अंदर ही निकल दो मैं तुम्हारे लंड का गरम पानी अपने अंदर महसूस करना चाहती हूँ।

अब मैं बुरी तरह से वहीदा की कमर को पकड़ कर ढके पर धक्के मार रहा था जिसे वो बेहाल हो गई थी और वो आहा आहा करके मेरे धक्के सेह रही थी अब धीरे धीरे करते मेरा लंड ने अपना सारा माल वहीदा की चूत में ही निकल दिया अब वो एक दम से खामोश हो गई थी और मुझे वो जोर से पकड़ कर वेसे ही लेती रही मैं भी हनफ रहा था और वहीदा के कांधे पर ही मैं आंख बंद करके लेता रहा।

हम लोग एक दूसरे से उलझे हुए थे और वो बोली वहीदा – मुझे आज काफी ज्यादा स्कौन मिला मुझे आज तक गुलजार ने कभी ऐसा मजा नहीं दिया और ना ही उसने आज तक मुझे शांत किया फिर हम दोनों 30 मिनट तक ऐसे ही लेते रहे और उसके बाद हम दोनों पूरे दिन सिर्फ सेक्स करते रहे मैंने कभी किचन में तो कभी बाथरूम में चोदा और उस रात मैंने उसे घर के हर एक कोने में ले कर चोदा।

2 thoughts on “दोस्त की बीवी ने दिया सेक्स का फुल मजा-Antarvasna Sex Story”

Leave a Comment

error: Content is protected !!